Hindi notes

संघ की प्रार्थना। नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे – Sangh prarthana

संघ की प्रार्थना। नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे – आरएसएस।

 

संघ की प्रार्थना – नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे

 

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे
त्वया हिन्दुभूमे सुखं वर्धितोहम्।
महामङ्गले पुण्यभूमे त्वदर्थे
पतत्वेष कायो नमस्ते नमस्ते॥ १॥

प्रभो शक्तिमन् हिन्दुराष्ट्राङ्गभूता
इमे सादरं त्वां नमामो वयम्
त्वदीयाय कार्याय बध्दा कटीयम्
शुभामाशिषं देहि तत्पूर्तये।
अजय्यां च विश्वस्य देहीश शक्तिं
सुशीलं जगद्येन नम्रं भवेत्
श्रुतं चैव यत्कण्टकाकीर्ण मार्गं
स्वयं स्वीकृतं नः सुगं कारयेत्॥ २॥

समुत्कर्षनिःश्रेयस्यैकमुग्रं
परं साधनं नाम वीरव्रतम्
तदन्तः स्फुरत्वक्षया ध्येयनिष्ठा
हृदन्तः प्रजागर्तु तीव्रानिशम्।
विजेत्री च नः संहता कार्यशक्तिर्
विधायास्य धर्मस्य संरक्षणम्।
परं वैभवं नेतुमेतत् स्वराष्ट्रं
समर्था भवत्वाशिषा ते भृशम्॥ ३॥

 

॥ भारत माता की जय ॥

हिंदी काव्यानुवाद

हे परम वत्सला मातृभूमि! तुझको प्रणाम शत कोटि बार।

हे महा मंगला पुण्यभूमि ! तुझ पर न्योछावर तन हजार॥

हे हिन्दुभूमि भारत! तूने, सब सुख दे मुझको बड़ा किया;

तेरा ऋण इतना है कि चुका, सकता न जन्म ले एक बार।

हे सर्व शक्तिमय परमेश्वर! हम हिंदुराष्ट्र के सभी घटक,

तुझको सादर श्रद्धा समेत, कर रहे कोटिशः नमस्कार॥

तेरा ही है यह कार्य हम सभी, जिस निमित्त कटिबद्ध हुए;

वह पूर्ण हो सके ऐसा दे, हम सबको शुभ आशीर्वाद।

सम्पूर्ण

यह भी पढ़ें – श्लेष अलंकार क्या होता है ? पूरी जानकारी | shlesh alankaar hindi

 

 

अंतिम महत्त्वपूर्ण शब्द

दोस्तों अगर ये पोस्ट आपके काम आई हो तो इसे शेयर जरूर करियेगा | क्योकि इससे हमे प्रेरणा मिलती है | और हम आपके लिए ऐसे ही बढ़िया बढ़िया कंटेंट लाते रहेंगे |  बस आप हमे सपोर्ट करते रहिये | हमारा फेसबुक पेज like जरूर करिए |

 

हमारा फेसबुक पेज खोलने के लिए यहाँ दबाएं 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *