Tutorials

Google adsense kya hai hindi me गूगल एडसेंस पूरी जानकारी

बहुत सारे लोगों के मन में ये सवाल रहता है की Google adsense kya hai और इससे पैसा कैसे कमाते हैं | गूगल एडसेंस एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण चीज़ बनती जा रही है भारत में | ये कमाने का इतना बेहतरीन जरिया साबित हो सकता है आपके लिए जितना आप सोच भी नहीं सकते | चलिए जानते हैं Google adsense kya hai hindi me |

 

Google Adsense kya hai aur paisa kese kamaye

 

वर्तमान में ऑनलाइन कमाई का माध्यम बड़ी तेजी से विकसित हो रहा है। इसमें एक सर्विस प्रोवाइडर के रूप में गूगल की अहम भूमिका है। गूगल के कई सारे प्रोडक्ट जैसे – यूट्यूब , ब्लॉगर , ऐडसेंस आदि कई प्रकार के प्रोडक्ट मार्केट में उपलब्ध कराकर इसमें नए व्यक्तियों को उसकी योग्यता के अनुसार नौकरी अथवा सर्विस प्रोवाइड करवा रहा है। इसमें व्यक्ति के मेहनत के अनुसार गूगल उसके मेहनत का भुगतान मूल्य के रूप में भी करता है।

 

गूगल ऐडसेंस google adsense kya hai  –

गूगल ऐडसेंस एक अकाउंट है जो  सेविंग बैंक अकाउंट की भांति है।गूगल ऐडसेंस के माध्यम से ऑनलाइन किए गए सभी कमाई का भुगतान किया जाता है। आपके द्वारा किया गया कार्य चाहे वह ब्लॉगिंग के सेक्टर में हो अथवा वीडियो , फोटोग्राफी या किसी भी प्रकार के ऑनलाइन का कारोबार हो , इन सभी सेक्टर में आपके द्वारा कमाए गए ऑनलाइन पैसे का भुगतान गूगल ऐडसेंस अकाउंट के माध्यम से आपके बैंक अकाउंट में करता है। इसके लिए आपको गूगल ऐडसेंस पर रजिस्टर्ड करना होता है , जिसमें नाम  , बैंक अकाउंट  आदि कई प्रकार के विवरण भरने पड़ते हैं।

 

गूगल कितना भुगतान करता है ( How much google adsense pay ) –

आपके द्वारा ऑनलाइन किए गए कमाई का सारा पैसा गूगल आपको नहीं देता। गूगल  विज्ञापन दाता से भी पैसे लेता है और आप से भी। गूगल विज्ञापन दाता से तो पैसा मोटे तौर पर लेता ही है किंतु आपके द्वारा कमाई किए गए 100 में से 32% भाग अपने पास रखता है और 68% भाग आपको भुगतान करता है।

 

गूगल ऐडसेंस अकाउंट कितने प्रकार के होते है ( types of google accounts ) –

गूगल ऐडसेंस अकाउंट दो प्रकार के होते हैं गूगल एडवर्ड ( google adwords ) और गूगल ऐडसेंस ( google adsense ) 

गूगल एडवर्ड विज्ञापन दाता के लिए होता है। गूगल एडवर्ड में अकाउंट बनाकर  कोई भी विज्ञापन दाता अथवा कंपनी अपने विज्ञापन को गूगल एडवर्ड के माध्यम से गूगल तक पहुंचाता है।

गूगल उस विज्ञापन को

गूगल ऐडसेंस से जुड़े ऑनलाइन कार्य करने वाले सभी व्यक्तियों तक विज्ञापन पहुंचाता है। उस विज्ञापन के माध्यम से ही ऑनलाइन की कमाई की जाती है।जितना पोस्ट और विज्ञापन देखा जायेगा गूगल उतना आपको भुगता करेगा।

Google admobYe account android application ke liye hota hai.

 

गूगल ऐडसेंस अकाउंट कैसे बनाते हैं ( How to make google adsense account ) –

Google adsense kya hai samjhne ke baad ye bhi samajhna aavashyak hai ki account banaya kese jaata hai . गूगल ऐडसेंस का अकाउंट हर उस व्यक्ति के लिए आवश्यक है जो ऑनलाइन कमाई करने की इच्छा रखता है। सर्वप्रथम व्यक्ति को उस प्लेटफार्म को चुनना पड़ता है जिस क्षेत्र में वह काम करना चाहता है। चाहे वह क्षेत्र वीडियो का सेक्टर हो अथवा फोटोग्राफी या ब्लागिंग का। उस चुने हुए क्षेत्र या प्लेटफॉर्म पर  अपनी आईडी के रूप में अकाउंट बनाना पड़ता है , और फिर उस अकाउंट को गूगल ऐडसेंस अकाउंट के माध्यम से जोड़ना होता है।

गूगल ऐडसेंस अकाउंट बनाने के लिए आपको गूगल ऐडसेंस की साइट पर विजिट करना पड़ेगा।  वहां अकाउंट क्रिएट ( Account creat ) का ऑप्शन मिलेगा वहां जाकर अपने निजी जानकारी गूगल के साथ साझा करना होगा।  जिसके माध्यम से गूगल ऐडसेंस आपको ऑनलाइन किए गए कमाई का भुगतान आपके बैंक में निश्चित तारीख में कर देता है।यहाँ साझा किये गए गोपनीय जानकारी का दुरूपयोग नहीं होता है इसके लिए आप निश्चिंत रहे सभी ऑनलाइन भुगतान इसके बिना सम्भव नहीं है।

गूगल ऐडसेंस अकाउंट बनाते ही वह आपको आपके द्वारा दिए गए ब्लॉगिंग ऐड्रेस अथवा ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का एड्रेस के लिए गूगल ऐडसेंस एक लिंक ( Link ) मुहैया कराता है। जिसको कॉपी करके अपनी साइट पर पेस्ट करके वेरीफाई करवाना पड़ता है। आपको उस ब्लॉगिंग के साइट पर अथवा हर उस प्लेटफार्म पर इस लिंक को पेस्ट करना होता है , जो आपने गूगल ऐडसेंस में रजिस्टर करवाया है। इसके माध्यम से गूगल आसानी से आपके इस प्लेटफार्म को जांच परख कर सकता है और आपके साइट आदि की  वास्तविक को जाँच परख कर सकता है। इस साइट की क्या वैल्यू है और यह साइट आप ही चला रहे है यह सब निरिक्षण आसानी से कर सकता है।

गूगल एडसेंस का कार्य करते समय सावधानी बरतने की बेहद आवश्यकता रहती है।  अतः आप लिंक पेस्ट करते समय सावधानी अवश्य बरतें।

 

गूगल ऐडसेंस अकाउंट बनाने में कितना समय लगता है ( Time taken to make google adsense account ) –

गूगल ऐडसेंस अकाउंट बनाने में अधिकतम समय 6 महीने ( six month ) लगता है।  किंतु यूट्यूब आदि जैसे तीव्र कार्य करने वाले प्लेटफॉर्म पर गूगल 1 ( one month ) महीने में भी अकाउंट बनाने को तैयार हो जाता है। गूगल आपके द्वारा किए गए कार्य को ध्यानपूर्वक देखता है। उसके सत्य और कॉपी – पेस्ट , हिंसक आदि सभी प्रकार के दिशा – निर्देश के उलंघन की पूरी जांच करने के उपरांत ही आपका अकाउंट बनाता है।

इस प्रक्रिया की पुष्टि के उपरान्त आपके प्लेटफार्म पर देखे गए विज्ञापन के अनुसार गूगल ऐडसेंस आपके पैसे को आपके adsense अकाउंट पर पैस कलेक्ट करता  रहता है और निश्चित रकम होने के उपरांत आपको भुगतान करता है।

 

गूगल ऐडसेंस अकाउंट कौन बना सकता है ( Who can make google adsense account ) –

गूगल ऐडसेंस अकाउंट हर वह 18 वर्ष का व्यक्ति बना सकता है जो बालिग ( adult ) कहलाता है , और उसके पास बैंक अकाउंट हो। 18 वर्ष से कम उम्र का जो बालक इस प्रकार के प्लेटफार्म पर अपनी कमाई कर रहा हो वह घर परिवार के किसी भी व्यक्ति का नाम गूगल ऐडसेंस में लिख सकता है जिसके पास बैंक अकाउंट हो।

किंतु वह बार-बार उसे अकाउंट में नाम बदल नहीं सकता इसलिए कोशिश करेंगे अपने द्वारा किए गए कार्य की राशि का भुगतान आप स्वयं ले सकें इसलिए 18 वर्ष के बाद ही गूगल ऐडसेंस बनाएं तो ज्यादा बेहतर होगा।

नए नियम के अनुसार गूगल ने पैन कार्ड ( PAN CARD ) की अनिवार्यता भी कर दी है , अर्थात गूगल ऐडसेंस बनाने वाले हर उस व्यक्ति के पास पैन कार्ड होना अनिवार्य है।

 

गूगल ऐडसेंस भुगतान कैसे करता है ( How google adsense pay ) –

ऑनलाइन किए गए आपके कमाई को गूगल ऐडसेंस अपने अकाउंट पर जोड़ता रहता है और आपके द्वारा किए गए कमाई जब $100 के ऊपर होता है तो महीने के 21 तारीख को वह आपके बैंक अकाउंट में डायरेक्ट भुगतान करता है।

इस भुगतान को प्राप्त करने के लिए आपको गूगल ऐडसेंस बनाकर वहां अपना बैंक अकाउंट नंबर (Bank अकाउंट no.) , आई एफ एस सी कोड (IFSC Code ), और स्विफ्ट कोड ( Swift code ) , लिखना अनिवार्य होता है।

इन जानकरी के माध्यम से गूगल ऐडसेंस आपके द्वारा कमाए गए पैसे को आपके खाते तक आसानी से पहुंचा देता है।

 

स्विफ्ट कोड क्या होता है ( Swift code kya hota hai ) –

स्विफ्ट कोड किसी भी बैंकिंग प्रणाली एक बैंक कोड होता है। जिस प्रकार हर एक व्यक्ति का एक बैंक में अकाउंट होता है , उस बैंक का एक आईडी जो आई.एफ.एस.सी (ifsc ) कोड के रूप में होता है। वैसे ही हर एक बड़े बैंक का स्विफ्ट कोड swift code होता है।

यह स्विफ्ट कोड जरूरी नहीं है कि हर एक बैंक के ब्रांच का हो आप अपने बैंक के नाम के बड़े बैंक के स्विफ्ट कोड को भी लिख सकते हैं।

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि जिस बैंक में आपका अकाउंट है उसी बैंक के बड़े ब्रांच का स्विफ्ट कोड होना चाहिए। जैसे – भारतीय स्टेट बैंक की किसी शाखा का अकाउंट नंबर , आई.एफ.एस.सी कोड आप प्रयोग कर रहे हैं। तो आप उसी भारतीय स्टेट बैंक के किसी भी स्विफ्ट कोड को प्रयोग कर सकते हैं।

इसके  माध्यम से विदेश से आए हुए डॉलर को आपका बड़ा बैंक रिसीव करके उसे डॉलर से रुपए में कन्वर्ट ( प्रवर्तन ) कर आपके अकाउंट और आई.एफ.एस.सी कोड के माध्यम से आपके अकाउंट में वह भुगतान कर देता है ।

स्विफ्ट कोड को आप गूगल पर सर्च करके भी ढूंढ सकते हैं इसके लिए बैंक अथवा ब्रांच में भटकने की जरूरत नहीं है।

Google adsense kya hai smajhne ke baad ye important hai ki aap usse judi baatein samjhein.

=>Google adsense ka account approve kese karaein

गूगल ऐडसेंस कब और कितना भुगतान करता है –

गूगल ऐडसेंस आपके द्वारा किए गए ऑनलाइन कमाई को महीने मैं एक बार 21 तारीख को भुगतान करता है। इस भुगतान की शर्त यह रहती है कि कम से कम $100 की कमाई आपके गूगल ऐडसेंस अकाउंट में होना चाहिए। यह भुगतान आपके बैंक खाते में होता है जो आपने ऐडसेंस अकाउंट बनाते समय वहां लिखा है।

 

गूगल ऐडसेंस में विज्ञापन कैसे लगाते हैं ( How to implement advertisement in your website using google adsense account )-

गूगल ऐडसेंस का कार्य अापने लगभग समझ ही लिया है , मोटे तौर पर गूगल ऐडसेंस एक ऐसा अकाउंट है जो आपको विज्ञापन मुहैया कराता है , और आपके द्वारा किए गए कमाई का लेखा-जोखा रखता है। इस अकाउंट के माध्यम से आपको भुगतान करता है , मोटे तौर पर समझे तो आपकी कमाई विज्ञापन के माध्यम से ही होती है , चाहे वह यूट्यूब अकाउंट हो अथवा ब्लॉगिंग का आपकी कमाई विज्ञापन से ही संभव है। adsense से जुड़ने  के लिए आपको गूगल ऐडसेंस में जाकर विज्ञापन ऑप्शन में जाकर वहां बैनर का साइज सिलेक्ट कर सकते हैं। वहां पर लगभग 5 तरह का बैनर होता है जो अधिकतर लोग यूज़ करते हैं। वहां बैनर का साइज बैनर की जगह यह सब निर्धारित होता है , उसको आप अपने ब्लॉगिंग पोस्ट में लगा सकते हैं।

 

ऑटो ऐड्स ( Auto ads ) –

इस ऑप्शन के माध्यम से गूगल एडसेंस अकाउंट अपने आप आपके पोस्ट के अनुसार बैनर स्वयं लगाता है।  इस लिए आपको गूगल ऐडसेंस अकाउंट में बैनर ऑप्शन में जाकर ऑटो एड पर क्लिक करना होगा , जिसके माध्यम से गूगल आपके कमांड के अनुसार आपके पोस्ट में यथास्थान इस बैनर को लगा देता है।

 

गूगल ऐडसेंस में सीपीसी का महत्व ( What is CPC in Google adsense account )-

गूगल ऐडसेंस में अपनी कमाई को बढ़ाने के लिए आपको अपने ब्लॉगिंग में हाई सी.पी.सी ( उच्च पैसे वाले पोस्ट ) अर्थात वह कीवर्ड का पोस्ट होना चाहिए जो अधिक से अधिक लोग ढूंढते अथवा पढ़ते हैं जैसे –  आज वर्तमान समय में ऑनलाइन कमाई का मुद्दा छाया हुआ है। सभी लोग इसको जानना चाहते हैं , और इसे कमाई का माध्यम बनाना चाहते हैं।

अतः अधिक से अधिक इसका सर्च ऑनलाइन किया जाता है , और पढ़ा जाता है। अतः इस पर लिखा गया पोस्ट अधिक से अधिक पढ़ा जाएगा और विज्ञापन वाले इस पोस्ट पर महंगा विज्ञापन लगाने के लिए मजबूर होंगे।  तो जितना हो सके आप हाई सी.पी.सी ( high c.p.c.)  वाले पोस्ट लगाएं जिससे आपकी कमाई अधिक हो।

SEO

SEO क्या है ? क्यों आवश्यक है SEO In Hindi Full Information

ब्लॉग पोस्ट को रैंक कैसे करें 

गूगल ऐडसेंस अकाउंट को कितने जगह जोड़ सकते हैं –

गूगल ऐडसेंस अकाउंट उसी प्रकार का  होता है , जिस प्रकार आपका बैंक में अकाउंट होता है। गूगल ऐडसेंस में आपका अकाउंट ठीक उसी प्रकार होता है जिस प्रकार आप , अपने सेविंग अकाउंट में कहीं भी , किसी भी देश अथवा किसी भी कंपनी द्वारा भुगतान ले सकते हैं। ठीक उसी प्रकार गूगल ऐडसेंस में आप तमाम ऑनलाइन सर्विस प्रोवाइडर से अपने मेहनत का भुगतान ले सकते हैं।

इस अकाउंट में भी कोई बाध्यता नहीं है , कि आप गूगल ऐडसेंस अकाउंट में एक प्लेटफार्म को जोड़ें अथवा अनेक। आप ब्लॉगिंग से कमाए हुए पैसे को भी गूगल ऐडसेंस में ले सकते हैं , साथ ही वीडियो , फोटो , टीचिंग अथवा किसी भी प्रकार की कमाई आप गूगल ऐडसेंस अकाउंट में प्राप्त कर सकते हैं।

 

इंग्लिश अथवा हिंदी वेबसाइट में गूगल ऐडसेंस कि क्या भूमिका रहती है ( Google adsense in hindi vs english websites ) –

गूगल ऐडसेंस निश्चित रूप से विदेश से कार्य करता है , उसमें इंग्लिश की मान्यता अधिक रहती है। गूगल ऐडसेंस इंग्लिश वेबसाइट को जितना महत्व देता है , उतना हिंदी और अन्य लोकल भाषा पर नहीं देता है। गूगल ऐडसेंस इंग्लिश की वेबसाइट पर जितने महंगे विज्ञापन मुहैया कराता है , इतने महंगे विज्ञापन हिंदी के वेबसाइट पर नहीं कराता।

तो आपको हो सके तो इंग्लिश वेबसाइट बनाने की आवश्यकता है।  यहां ध्यान देने वाली बात यह रहती है कि इंग्लिश की वेबसाइट पर कंपटीशन / पर्तिस्पर्धा  बहुत ही अधिक होता है। जितनी जल्दी आप हिंदी में अथवा किसी देशी  भाषा पर अपने वेबसाइट को जल्द से जल्द एक सम्मानजनक स्थिति में पहुंचा सकते हैं। उतना ही  इंग्लिश वेबसाइट में संघर्ष करना पड़ता है। यहां अनेकों – अनेक इंग्लिश की वेबसाइटें , आपसे प्रतिस्पर्धा करने को तैयार हैं ,  और इस सेक्टर में बहुत पहले से कार्य कर रही है तो इसमें कंपटीशन अधिक रहेगा।

आप ऐसे कीवर्ड को ढूंढे / फाइंड करें जिसमें कंपटीशन कम हो और उस पर बेहद ही आकर्षक और लोकप्रिय पोस्ट लिखकर अपने पोस्ट को , वेबसाइट को रैंक करवा सकते हैं। जिसके माध्यम से आपको अधिक से अधिक कमाई करने की संभावना निरंतर बढ़ती जाती है।

Aasha hai aapko google adsense kya hai achhi tarah samajh me aa gya hoga. Agar ye post achha laga ho to share jaroor karein. Aur neeche diye gaye post bhi jaroor padhein.

यह भी पढ़ें –

यूट्यूब से पैसे कैसे कमाएं 

एफिलिएट मार्केटिंग से पैसा कैसे कमाएं 

डैलीमोशन से पैसा कैसे कमाएं 

ऑनलाइन पैसा कैसे कमाएं 

Hindi jankari 

होस्टिंग क्या होती है 

डोमेन नेम क्या होता है 

Our social handles

फेसबुक पेज 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *